न्याय और कानून में क्या अंतर है? Nyaay aur kaanoon mein kya antar hai?

सवाल: न्याय और कानून में क्या अंतर है?


न्याय और कानून हमारे एवं हमारी स्वतंत्रता के लिए अति आवश्यक है। कई बार लोग न्याय और कानून को एक ही मान लेते हैं। परंतु दोनों में कई अंतर हैं। कानून से का मतलब होता है, कि राष्ट्र को सुचारू रूप से चलाने के लिए आपको कुछ नियम का पालन करना होगा, एवं कभी कबार राष्ट्र के लिए यदि आपको कुछ क्षति पहुंच जाए, तो वह कानून होता है। न्याय को बचाने के लिए कानून का निर्माण किया गया है। न्याय से तात्पर्य है, यदि आपके साथ किसी व्यक्ति ने स्वयं के लालच के लिए, यदि आपके साथ कुछ गलत एवं आपको अपमानित किया गया है, और आप के हितों को क्षति पहुंचाई गई हैं, तो उसके लिए न्याय व्यवस्था बनाए गए हैं। जैसे कि आप अपने हितों की रक्षा कर सकते हैं, राष्ट्र के लिए कानून के अंतर्गत यदि आपके कोई तो हितों की आवेला कर आप पर अत्याचार करना चाहते हैं, तो इसके लिए न्याय व्यवस्था बनाई है।

0 Komentar

Post a Comment

चलो बातचीत शुरू करते हैं 📚

Iklan Atas Artikel

Iklan Tengah Artikel 1

Iklan Tengah Artikel 2

Latest Post

Recent Posts Widget