प्राचीन भारतीय राजनीतिक चिंतन की विशेषताएं लिखिए? Praacheen bhaarateey raajaneetik chintan ki visheshtaen likhiye?

सवाल: प्राचीन भारतीय राजनीतिक चिंतन की विशेषताएं लिखिए?

प्राचीन भारत में सभी को सम्मान एवं परोपकार की नजर से देखा जाता था, वहां पर शत्रु पर भी दया दिखाई जाती थी। अगर प्राचीन राजनीतिक विशेषताएं इस प्रकार हैं, तथा इसके कई नाम थे, इसे राजदंड, राजनीति और नीति शास्त्र अनेक नामों से संबोधित किया जाता था। राजधर्म से तात्पर्य होता है, कि राजा क्या-क्या धर्म है, एवं राजा को क्या करना चाहिए एवं उसे क्या नहीं करना चाहिए। दंड नीति का प्रयोग किसी भी कैदी को दंड देने के लिए इस नीति का प्रयोग किया जाता था, तथा इसे प्रशासन का शस्त्र भी माना जाता था, तथा किसी भी राज्य को सुचारू रूप से चलाने के लिए बल प्रयोग या दंड के बिना कोई भी राज्य नहीं चल सकता, दंड देने से अपराधियों में भय पैदा होता है। अर्थशास्त्र का प्रयोग केवल और केवल धनसंपदा अधिक कमाने के लिए किया जाता था। नीति शास्त्र का प्रयोग अच्छा एवं बुराई में भेद करने के लिए किया जाता था, राज्य का आधार ही मोक्ष प्राप्ति था तथा पहले के समय में भारत में धर्म और राजनीति का घनिष्ठ संबंध था।

0 Komentar

Post a Comment

चलो बातचीत शुरू करते हैं 📚

Iklan Atas Artikel

Iklan Tengah Artikel 1

Iklan Tengah Artikel 2

Latest Post

Recent Posts Widget