कृष्ण के प्रति अपने अनन्य प्रेम को गोपियों ने किस प्रकार अभिव्यक्त किया है? Krishna ke prati apne ananya prem ko gopiyon ne kis prakaar abhivyakt kiya hai?


सवाल: कृष्ण के प्रति अपने अनन्य प्रेम को गोपियों ने किस प्रकार अभिव्यक्त किया है? 

भगवान श्री कृष्ण के प्रति गोपियों ने अपने अनन्य प्रेम को अपने विचारों तथा कार्यों से अभिव्यक्त किया हैं। गोपियों के अनुसार श्री कृष्ण उनके लिए हारिल पक्षी की लकड़ी के समान है, जिस तरह से हरिल पक्षी अपने पंजों में एक लकड़ी को पकड़ कर ले जाता है, ठीक उसी तरह से गोपियों ने भी श्री कृष्णा के प्रति प्रेम को गोपियों ने अपने हृदय में पूरी आस्था के साथ पकड़ रखा है। गोपिया दिन रात सोते जागते स्थापना स्वर्ण में भी भगवान श्री कृष्ण के नाम की रट लगाती हैं। जिस तरह कोई चींटी गुड से चिपकी रहती हैं, उसी तरह गोपिया भी श्री कृष्ण के प्रेम में लिप्त हैं।

0 Komentar

Post a Comment

चलो बातचीत शुरू करते हैं 📚

Iklan Atas Artikel

Iklan Tengah Artikel 1

Iklan Tengah Artikel 2

Latest Post

Recent Posts Widget